स्पॉट ट्रेडिंग और फ्यूचर्स ट्रेडिंग के बीच अंतर क्या हैं

Binance
2021-09-14 06:59

क्रिप्टो फ्यूचर्स ट्रेडिंग क्या है?

क्रिप्टो फ्यूचर्स अनुबंध हैं जो एक विशिष्ट क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) के मूल्य का प्रतिनिधित्व करते हैं। जब आप भविष्य अनुबंध खरीदते/खरीदती हैं तो आपके पास अंतर्निहित क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) नहीं होती है। इसके बजाय, आपके पास एक अनुबंध है जिसके तहत आप बाद की तारीख में एक विशिष्ट क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) खरीदने या बेचने के लिए सहमत होते/होती हैं।

क्रिप्टो स्पॉट ट्रेडिंग क्या है?

स्पॉट मार्केट में, आप तत्काल डिलेवरी के लिए बिटकॉइन और इथेरियम जैसी क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) खरीदते/खरीदती और बेचते/बेचती हैं। दूसरे शब्दों में, क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) को सीधे बाजार सहभागियों (खरीदारों और विक्रेताओं) के बीच अंतरित किया जाता है। स्पॉट मार्केट में, आपके पास क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) का प्रत्यक्ष स्वामित्व है और आप आर्थिक लाभों के हकदार हैं, जैसे कि प्रमुख फोर्क्स के लिए मतदान या स्टेकिंग भागीदारी।

क्रिप्टो स्पॉट ट्रेडिंग और क्रिप्टो फ्यूचर्स ट्रेडिंग के बीच क्या अंतर हैं?

1. लेवरिज - लेवरिज वायदा कारोबार को अत्यधिक पूंजी-कुशल बनाता है। भविष्य अनुबंध के साथ, आप 1 BTC फ्यूचर्स पोजीशन को उसके बाजार मूल्य के एक अंश पर खोल सकते/सकती हैं। दूसरी ओर, स्पॉट ट्रेडिंग लेवरिज प्रदान नहीं करती है। उदाहरण के लिए, स्पॉट मार्केट में 1 BTC खरीदने के लिए, आपको हजारों डॉलर की आवश्यकता होगी। मान लें कि आपके पास केवल 10,000 USDT उपलब्ध है, आप इस मामले में केवल 10,000 USDT मूल्य का बिटकॉइन खरीद सकते/सकती हैं।
2. लॉन्ग या शार्ट के लिए लचीलापन- यदि आप स्पॉट मार्केट में क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) रखते/रखती हैं, तो समय के साथ आपकी क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) का मूल्य बढ़ने पर आपको पूंजी वृद्धि से लाभ हो सकता है। दूसरी ओर, भविष्य अनुबंध, आपको किसी भी दिशा में अल्पकालिक मूल्य आंदोलनों से लाभ प्राप्त करने की अनुमति देता है। बिटकॉइन की कीमत भले ही गिर जाए,आप डाउनट्रेंड और लाभ में भाग ले सकते/सकती हैं क्योंकि मूल्य कम होती रहती हैं। भविष्य अनुबंध का उपयोग अप्रत्याशित जोखिमों और अत्यधिक मूल्य अस्थिरता से बचाने के लिए भी किया जा सकता है, जो उन्हें माइनर और लंबी अवधि के निवेशकों के लिए आदर्श बनाता है।
3. तरलता - मासिक मात्रा में खरबों डॉलर के साथ, क्रिप्टो फ्यूचर्स मार्केट गहरी तरलता प्रदान करता है। उदाहरण के लिए, बिटकॉइन फ्यूचर्स मार्केट का औसत मासिक कारोबार $ 2 ट्रिलियन है, जो बिटकॉइन स्पॉट मार्केट में ट्रेडिंग मात्रा को पार करता है। इसकी मजबूत तरलता मूल्य की खोज को बढ़ावा देती है और व्यापारियों को बाजार में जल्दी और कुशलता से लेनदेन करने की अनुमति देती है।
4. फ्यूचर्स बनाम स्पॉट मूल्य - क्रिप्टो मुद्रा (क्रिप्टोकरेंसी) की मूल्य खरीदारों और विक्रेताओं द्वारा आपूर्ति और मांग की आर्थिक प्रक्रिया के माध्यम से निर्धारित की जाती हैं। स्पॉट मूल्य स्पॉट मार्केट में सभी लेनदेन के लिए विनिर्णय मूल्य है। दूसरी ओर, वायदा मूल्य, मौजूदा स्पॉट मूल्य और फ्यूचर्स प्रीमियम पर आधारित होती है। फ्यूचर्स प्रीमियम या तो सकारात्मक या नकारात्मक हो सकता है। एक सकारात्मक प्रीमियम इंगित करता है कि फ्यूचर्स मूल्य स्पॉट मूल्य से अधिक है; इसके विपरीत, एक नकारात्मक प्रीमियम इंगित करता है कि वायदा मूल्य स्पॉट मूल्य से कम है। आपूर्ति और मांग में बदलाव के कारण भविष्य के प्रीमियम में उतार-चढ़ाव हो सकता है।